महंगाई रोकने में विफल भाजपा सरकार

30
प्री-बजट का दिखावा भी एक छलावा-अखिलेश यादव
प्री-बजट का दिखावा भी एक छलावा-अखिलेश यादव

ब्यूरो निष्पक्ष दस्तक

भाजपा के सत्ता में आते ही महंगाई बढ़ने लगी है। बाजार में उपभोक्ता के लूट की खुली छूट है। भाजपा सरकार की गलत आर्थिक नीतियों के कारण महंगाई अब चरम पर पहुंच गयी है। खाने-पीने की चीजों से लेकर मोटर साइकिल, साइकिल, ईंधन, जरूरत की हर सामान महंगा होता जा रहा है। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार महंगाई रोकने में पूरी तरह विफल है। इस सरकार को जनता की परेशानियों की कोई चिंता नहीं है। चुनाव खत्म होते ही दूध, तेल, की कीमतें बढ़ गयी है। सब्जियों और दालों की कीमते आसमान छू रही है। पढ़ाई, लिखाई और दवाई के बोझ तले आम जनता पहले से दबी है। महंगाई के इस दौर में आम जनता के लिए जीवनयापन करना मुश्किल है। महंगाई रोकने में विफल भाजपा सरकार

सच तो यह है कि बाजार पर सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है। दाले 200 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई है। आलू 40 रूपये प्रति किलो ग्राम मिल रहा है। अन्य सब्जियों की बढ़ी कीमतों ने लोगों का बजट बिगाड़ दिया है। गरीब और मध्यम वर्ग के लिए दो जून की रोटी की व्यवस्था कर पाना मुश्किल है। अखिलेश यादव ने कहा कि लोकसभा चुनाव में जनता ने भाजपा को झटका दिया है लेकिन वह येनकेन प्रकारेण सत्ता पर काबिज हो गयी। भाजपा सरकार का अहंकार अभी भी कम नहीं हो रहा है। भाजपा की नीतियां सिर्फ पूंजीपतियों के लिए है। वह हर समय गरीबों और मध्यम वर्ग की जेब काटने के रास्ते तलाशती रहती है। भाजपा सरकार के इशारे पर बैंक अमीर कर्जदारों को और कर्ज दे रही हैं और उन्हीं के कर्ज भी माफ कर रही है जबकि गरीब किसान के छोटे से छोटे कर्ज पर भी उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है। गरीब किसान अपमानित होकर मजबूरन आत्महत्या करने को विवश हो रहा है। महंगाई रोकने में विफल भाजपा सरकार