वर्ल्ड क्लास रेजिडेंशियल स्कूलों में पढ़ेंगे अनाथ,गरीब और श्रमिकों के बच्चे

274
वर्ल्ड क्लास रेजिडेंशियल स्कूलों में पढ़ेंगे अनाथ,गरीब और श्रमिकों के बच्चे
वर्ल्ड क्लास रेजिडेंशियल स्कूलों में पढ़ेंगे अनाथ,गरीब और श्रमिकों के बच्चे

वर्ल्ड क्लास रेजिडेंशियल स्कूलों में पढ़ेंगे अनाथ, गरीब और श्रमिकों के होनहार बच्चे।योगी सरकार कर रही अगस्त अंत तक 18 में से 16 अटल आवासीय विद्यालयों में पठन-पाठन शुरू करने की तैयारी।1189.88 करोड़ की लागत से तैयार हो रहे ये स्कूल, पूरे करेंगे गरीब और बेसहारा होनहारों के सपने।प्राचार्य, शिक्षक और प्रशासनिक अधिकारियों की नियुक्ति प्रक्रिया हुई पूरीउत्तर प्रदेश के सभी 75 जनपदों से अटल आवासीय विद्यालय के लिए बच्चों का हुआ सेलेक्शन। सीबीएसई बोर्ड के इन स्कूलों में बच्चों के लिए मुफ्त हॉस्टल, मिलेगी सभी उच्चस्तरीय सुविधाएं। वर्ल्ड क्लास रेजिडेंशियल स्कूलों में पढ़ेंगे अनाथ,गरीब और श्रमिकों के बच्चे

निष्पक्ष दस्तक ब्यूरो

लखनऊ। योगी सरकार प्रदेश के गरीब, अनाथ और श्रमिकों के होनहार बच्चों को बेहतरीन सुविधाओं से युक्त रेजिडेंशियल स्कूलों में पढ़ाने की तैयारी को अंतिम रूप देने में लगी है। प्रदेश के 18 जिलों में अटल आवासीय विद्यालयों का संचालन होना हैं। इनमें भी 16 जिलों में भवन निर्माण का काम करीब करीब पूरा हो चुका है। इनमें अगस्त महीने के अंत तक कक्षा 6 के लिए पठन-पाठन शुरू करने की तैयारी है। वहीं बाकि बचे 2 विद्यालयों को भी इस साल के अंत तक क्रियाशील किया जा सकता है। 1189.88 करोड़ की लागत से बन रहे इन 18 रेजिडेंशियल स्कूलों में सभी उच्चस्तरीय सुविधाएं उपलब्ध होंगी। सीबीएसई बोर्ड द्वारा मान्यता प्राप्त इन स्कूलों में कक्षा 6 से 12 तक की शिक्षा दी जाएगी।

इन स्थानों पर बन रहे हैं अटल आवासीय विद्यालय


प्रदेश में 18 स्थानों पर आजमगढ़, बस्ती, लखनऊ, अयोध्या, बुलंदशहर (मेरठ), गोण्डा, गोरखपुर, ललितपुर (झांसी), प्रयागराज, सोनभद्र (मीरजापुर), मुजफ्फरनगर (सहारनपुर), बांदा, अलीगढ़, आगरा, वाराणसी, कानपुर, बरेली और मुरादाबाद में अटल आवासीय विद्यालय का संचालन होना है।

प्रदेश के सभी जिलों से बच्चों के प्रवेश की प्रक्रिया को पूरा कर लिया गया है। हमारा प्रयास है कि अगस्त माह के अंत तक हम 18 में से 16 विद्यालयों में कक्षा 6 में पठन-पाठन का कार्य शुरू करा दें। बाकी बचे दो विद्यालयों में भी इस साल के अंत तक कक्षा 6 में पढ़ाई शुरू हो, इसके लिए विभाग तेज गति से कार्य कर रहा है।

टीचिंग और नॉन टीचिंग कर्मचारियों की नियुक्ति प्रक्रिया भी लगभग पूरी


अटल आवासीय विद्यालयों के लिए टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ की नियुक्ति प्रक्रिया को भी करीब करीब पूरा कर लिया गया है। इनमें प्राचार्यों की नियुक्ति 5 अप्रैल तक पूरी हो चुकी है, जबकि प्रशासनिक अधिकारियों की नियुक्ति की प्रक्रिया को 22 जून को पूरा कर लिया गया है। इसी प्रकार शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया को 26 जून को पूरा कर लिया गया है। वहीं नॉन टीचिंग स्टाफ के लिए इंटरव्यू प्रक्रिया जारी है, जोकि अंतिम चरण में है। साथ ही सभी स्कूलों के लिए फर्चीनर, मेस सर्विस, फैकल्टी मैनेजमेंट, यूनिफॉर्म और अन्य एसेसिरीज की उपलब्धता को भी जल्द से जल्द पूरी हो जाएगी। ये कार्य भी अंतिम चरण में है।

इन सुविधाओं से लैस होंगे ये स्कूल


प्रदेश में स्थापित होने जा रहे 18 अटल आवासीय विद्यालयों में जहां मुफ्त हॉस्टल की सुविधा होगी, वहीं बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए सेंट्रल एकेडमिक टीम की ओर से यूनिक एकेडमिक करिकुलम भी डिजाइन किया गया है। साथ ही कंप्यूटर लैब, साइंस लैब, मैथेमेटिक्स लैब, सोशल साइंस लैब, अटल थिंकरिंग लैब और एक्सपेरिमेंटल लैब की भी सुविधा यहां होगी। विद्यालय परिसर पूरी तरह से हरियाली से परिपूर्ण होंगे। वर्ल्ड क्लास रेजिडेंशियल स्कूलों में पढ़ेंगे अनाथ,गरीब और श्रमिकों के बच्चे

—– निशा अनंत, महानिदेशक, अटल आवासीय विद्यालय