उत्तर प्रदेश में निवेश की अपार संभावनाएं-जयवीर सिंह

217

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”इस समाचार को सुने”]

पर्यटन एवम संस्कृति मंत्री ने साउथ कोरिया में प्रतिष्ठित कंपनियों के सीईओ एवं दूतावास के अधिकारियों को संबोधित। उत्तर प्रदेश में निवेश की अपार संभावनाएं।उत्तर प्रदेश में व्यवसायियों के लिए भयमुक्त माहौल है। निवेश संचालन समिति ने निवेश आकर्षित करने, औद्योगिक विकास तथा समग्र इकोसिस्टम बनाने हेतु कई सुधारात्मक कदम उठाए हैं।

उत्तर प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह ने आज साउथ कोरिया स्थित होटल लोटे में प्रतिष्ठित कंपनियों के सीईओ एवं दूतावास के अधिकारियों को संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि पर्यटन, एमएसएमई, टेक्सटाइल आदि सहित विशिष्ट सेक्टरों में निवेश आकर्षित करने के लिए 25 नीतियों को तैयार किया गया है। निवेश संचालन समिति ने निवेश आकर्षित करने, औद्योगिक विकास तथा समग्र इकोसिस्टम बनाने हेतु कई सुधारात्मक कदम उठाए हैं । हमारी अधिकांश नीतियों में समग्र अवलोकन किया गया है जिसमें सहायक प्रोत्साहन नीति शामिल है। इकाई के प्रदर्शन के आधार पर पूंजीगत सब्सिडी की सुविधा है। भारत अर्थब्यवस्था की दृष्टि से विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है, तथा विगत कुछ वर्षों से विश्व भर में सबसे पसंदीदा निवेश गंतव्य में से एक है। उन्होंने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने स्वतंत्रता दिवस पर अपने संबोधन में भारत को 5 ट्रिलियन यू०एस० डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का विजन दिया था। इस विजन को साकार करने के लिए भारत वर्ष में सरकार द्वारा किए जा रहे व्यवसायिक कार्यों में व्यवसायिक विशेषज्ञ को जोड़कर पीपीपी माडल पर व्यवसायो को विकसित करने की योजना को मूर्त रूप दिया जा रहा है।


जयवीर सिंह ने कहा कि व्यवसाय संचालन के लिए उत्तर प्रदेश में युवा विशेषज्ञों की अपार उपलब्धता है। उत्तर प्रदेश में अनेकानेक व्यवसायिक शिक्षा की व्यवस्था स्थापित करके विषय विशेषज्ञ तैयार किए जा रहे हैं।व्यवसाय संचालन के नियमों को व्यवसाय मित्र नियम बनाए गए हैं । ब्यवसाइयो को भयमुक्त व्यवसाय का अवसर दिलाने के लिए कानून व्यवस्था सुदृढ़ किया गया है। किसी प्रकार की आपदा से निपटने में भी उत्तर प्रदेश में अग्रणी है।श्री सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश को 01 ट्रिलियन यूएस डॉलर कितना भी बनाने का संकल्प लिया है इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए भारत की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की दिशा में अग्रसर उत्तर प्रदेश लखनऊ में 10 से 12 फरवरी 2023 तक ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट आयोजित है,जिसमें 175 बिलियन यू०एस० डॉलर का निवश आकर्षित करने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि इसके लिए हमने 12 सेक्टर्स की पहचान की है,जिसमे पर्यटन भी शामिल है। उत्तरप्रदेश में अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू स्तर पर प्रसिद्ध लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। यूनेस्को द्वारा घोषित 03 विश्व धरोहर राज्य में स्थित है। अयोध्या,सारनाथ, वाराणसी जैसे अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व के कई प्राचीन धार्मिक विरासत के पर्यटन स्थल पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बिंदु है। राज्य में देवाशरीफ,फतेहपुर सिकरी, मथुरा,वृंदावन,झांसी,महोबा कालिंजर से ख्याति प्राप्त आध्यात्मिक स्थल है। राष्ट्रीय वन्य जीव अभ्यारण में दुधवा पीलीभीत,कतर्नियाघाट वन्यजीव एवं राज्य में 18 से अधिक रामसर स्थल है। जहां निवेश की अपार संभावनाएं हैं


श्री सिंह ने कहा कि दक्षिण कोरिया- उत्तर प्रदेश के संबंध लगभग 2000 वर्ष पहले से हैं। भारतीय राजकुमारी सूरीरत्ना का जिमगवान के राजा शुरू से विवाह हुआ था। इतना ही नहीं जिमगवान राज्य का प्रतीक एक जुड़वा मछली है । यह उत्तर प्रदेश में अयोध्या नगर में कोई ऐतिहासिक स्मारकों में भी पाया जाता है। हाल ही में कोरिया की प्रथम महिला किम जंग सूक ने भारत का दौरा किया था ,जिसने दोनों देशों के बीच गहरे सभ्यागत एवं आध्यात्मिक संबंधों को नवीन ऊर्जा दी । उत्तर प्रदेश को हमारे विजन उत्तर प्रदेश को एक वैश्विक एवं उत्तरदायी पर्यटन स्थल के रूप में परिवर्तित करने पर आधारित है,जहां सभी के लिए पर्याप्त अवसर और आर्थिक समृद्धि के साथ सर्वोत्तम आगंतुक अनुभव सुनिश्चित करना है। अगले 5 वर्षों के लिए हमारे रोडमैप के मार्गदर्शक सिद्धांत 7 एस सूचना,स्वागत,सुविधा,सुरक्षा, स्वच्छता, संरचना एवं सहयोग पर आधारित है।हमारी सरकार ने कुछ दिनों पूर्व ही एक नयी पर्यटन नीति नई घोषित की है जो निवेशकों को कई प्रकार के प्रोत्साहन प्रदान करती है। इस नीति का लक्ष्य ₹20,000 करोड़ का निवेश आकर्षित करना एवं प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से 1 मिलियन से अधिक रोजगार सृजित करना है। उत्तर प्रदेश में निवेशकों के अनुकूल वातावरण के कारण अपार संभावनाएं हैं।

[/Responsivevoice]