खिरियाबाग संघर्ष साथ आएं अखिलेश

191
खिरियाबाग संघर्ष साथ आएं अखिलेश
खिरियाबाग संघर्ष साथ आएं अखिलेश

खिरियाबाग संघर्ष साथ आएं अखिलेश

एसडीएम सगड़ी पहुंचे खिरिया बाग, धरना समाप्त करने और जिलाधिकारी से वार्ता का रखा प्रस्ताव. अखिलेश यादव विधानसभा में किसानों-मजदूरों का सवाल उठाएं और खिरियाबाग संघर्ष में साथ आएं.

अजय सिंह

आज़मगढ़/खिरियाबाग- धरने के दौरान एसडीएम सगड़ी और अन्य प्रशासनिक अधिकारी खिरियाबाग आए. एसडीएम सगड़ी ने फिर से धरना समाप्त करने की गुजारिश करते हुए कहा कि जिलाधिकारी आपसे फिर वार्ता करना चाहते हैं. किसानों-मजदूरों ने साफ कहा कि जब तक हवाई अड्डा विस्तारीकरण की परियोजना रदद् करने का लिखित शासनादेश नहीं मिल जाता तब तक धरना चलता रहेगा. वार्ता के सम्बंध में कहा कि जिलाधिकारी से पिछली वार्ता के बाद जिस तरह से किसान नेताओं का अपहरण करने की फिर कोशिश हुई उससे हम धरना स्थल या फिर ग्रामपंचायत भवन में ही वार्ता करेंगे.

खिरिया बाग संघर्ष के 125 वें दिन धरनारत ग्रामीणों ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव से आजमगढ़ में हवाई पट्टी के विस्तार की परियोजना रद्द करने के आंदोलन में समर्थन मांगा. अखिलेश यादव से कहा कि जिलाधिकारी ने कहा है कि आप विधायक या सांसद नहीं जो आपके कहने पर परियोजना रदद् कर दी जाए. अखिलेश यादव पूर्व मुख्यमंत्री रहे हैं और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हैं ऐसे में किसानों-मजदूरों के हित में विस्तारीकरण की परियोजना रदद् करवाने के संघर्ष में साथ दें.

READ MORE-एक्सप्रेसवेज के निर्माण समय पूर्ण करें-मुख्यमंत्री

किसानों-मजदूरों ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सदर लोकसभा आज़मगढ़ से हमारे सांसद रहे हैं और उनके पिता स्वर्गीय मुलायम सिंह यादव भी हमारे सांसद रहे हैं. विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव खिरियाबाग आंदोलन का समर्थन करें, विधानसभा में सवाल उठाएं, मुख्यमंत्री और राज्यपाल महोदया से मुलाकात कर इस समस्या को हल कराएं और खिरिया बाग, जमुआ हरिराम आज़मगढ़ में आकर हमारा समर्थन करें. विधानसभा गोपालपुर से विधायक नफीस अहमद और विधायक दुर्गा प्रसाद यादव ने सदन में भी किसानों-मजदूरों के समर्थन में सवाल उठाया. पर अभी तक सरकार ने हवाई पट्टी के विस्तारीकरण की परियोजना रद्द नहीं की.

धरनारत ग्रामीणों ने कहा कि जिला प्रशासन ने यह कह दिया है कि किसान जमीन नहीं देना चाहते तो अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट की परियोजना स्थगित की जाती है. जब किसान-मजदूर जमीन-मकान नहीं देना चाहते तो परियोजना रदद् करनी चाहिए. प्रशासन से 6 राउंड की वार्ता में अब प्रशासन ने असमर्थता जता दी है कि परियोजना रदद् करने का अधिकार उनके पास नहीं है. ऐसे में इस मामले में सरकार तत्काल हस्तक्षेप कर किसानों-मजदूरों की समस्या का निराकरण करे.धरने को क्रांतिकारी किसान यूनियन के प्रदेश प्रभारी शशिकांत,राजेश आज़ाद,राम कुमार यादव, प्रेम चंद्र,राम चन्द्र यादव,राम नयन यादव,राजीव यादव,राम शबद निषाद,दुखहरन राम, रविन्द्र यादव, विनोद यादव,अवधेश यादब ने संबोधित किया.धरने की अध्यक्षता सुनीता शर्मा और संचालन राधेश्याम राव ने किया.

खिरियाबाग संघर्ष साथ आएं अखिलेश