होलिका दहन का समय एवं मान्यता

217
होलिका दहन का समय एवं मान्यता
होलिका दहन का समय एवं मान्यता

होलिका दहन का समय एवं मान्यता,फाल्गुन माह पूर्णिमा तिथि का आरंभ 6 मार्च को 4 बजकर 17 मिनट से 7 मार्च 06 बजकर 09 मिनट तक है। होलिका दहन 7 मार्च की शाम को 6 बजकर 24 मिनट से लेकर 8 बजकर 51 मिनट तक है।

होली का पर्व रंगों का पर्व एक आकर्षक सांस्कृतिक और धार्मिक उत्सव है जिसमें हवा में रंग, गुलाल लगाना शामिल है। होली का पर्व भारत ही नहीं कई अन्य देशों में भी मनाई जाती है। संयुक्त राज्य अमेरिका में हिंदू आबादी है, खासकर बड़े महानगरीय क्षेत्रों में। त्योहार के धार्मिक अर्थ के अलावा, कुछ ने इसे तमाशा और मनोरंजन के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में अपनाया है। होली के त्यौहार बोस्टन, न्यूयॉर्क, ह्यूस्टन और यहां तक ​​कि स्पेनिश फोर्क, यूटा में देखे जा सकते हैं। होली महोत्सव मुख्य रूप से भारत और नेपाल में मनाया जाता है , लेकिन वर्षों से यह एक ऐसा उत्सव बन गया है जो दुनिया भर में कई समुदायों में होता है। त्योहार दिल्ली, आगरा और जयपुर जैसे शहरों में सबसे व्यापक और खुले तौर पर मनाया जाता है, और जबकि प्रत्येक शहर थोड़ा अलग तरीके से मना सकता है, आप बहुत सारे रंग, संगीत और नृत्य देखने की उम्मीद कर सकते हैं।

अब त्यौहार का महीना शुरू हो गया है। अब लगातार कुछ न कुछ त्यौहार है। वहीं हिंदू धर्म में होली का बहुत महत्व होता है। होली बच्चों को तो बहुत पसंद होती ही है साथ ही साथ ये बड़ों को भी बहुत भाता है। और ऐसा हो भी क्यों न होली में रंगो के अलावा अलग-अलग प्रकार के पकवान जो बनते है। जैसे गुझिया, इमरती, मावा पेड़े, बेसन की बर्फी, बेसन के लड्डू, बालूशाही , केसर मलाई के लड्डू ,ठंडाई।

READ MORE- निषाद ने योगी को दिया खुला चैलेंज

होलिका दहन की लपटें बहुत लाभकारी होती है, माना जाता है कि होलिका की पूजा करने से साधक की हर चिंता दूर हो जाती है। होलिक दहन की अग्नि नकारात्मकता का नाश करती है वहीं वैज्ञानिक दृष्टि से देखें तो इसकी लपटों से वातावरण में मौजूद बैक्टीरिया खत्म हो जाते हैं। होलिका पूजा और दहन में परिक्रमा बेहद महत्वपूर्ण मानी जाती है। मान्यता हैं परिक्रमा करते हुए अपनी मनोकामनाए कहने से वो जल्द पूरी हो जाती है।

पौराणिक कथा के अनुसार प्राचीन काल में हिरण्यकश्यप नाम का एक असुर राजा था। जो बहुत घमंडी था। ऐसा कहा जाता है की वह खुद के ईश्वर होने का दावा भी करता था। हिरण्यकश्यप ने अपने राज्य में ईश्वर के नाम लेने पर ही पाबंदी लगा दी थी और खुद को ईश्वर मानने लगा था। लेकिन हिरण्यकश्यप का पुत्र प्रह्लाद ईश्वर भक्त था। हिरण्यकश्यप की बहन होलिका को आग में भस्म न होने का वरदान मिला हुआ था। एक बार हिरण्यकश्यप ने होलिका को आदेश दिया कि प्रह्लाद को गोद में लेकर आग में बैठ जाए। लेकिन आग में बैठने पर होलिका जल गई और प्रह्लाद बच गया। तब से ही ईश्वर भक्त प्रह्लाद की याद में होलिका दहन किया जाने लगा। अधर्म पर धर्म की, नास्तिक पर आस्तिक की जीत के रूप में भी देखा जाता है।

हिंदू धर्म में बुराई पर अच्छाई की जीत हिरण्यकशिपु की कहानी में निहित है। वह एक प्राचीन राजा था जिसने अमर होने का दावा किया और एक देवता के रूप में पूजा करने की मांग की। उसका पुत्र प्रह्लाद हिंदू देवता विष्णु की पूजा करने के लिए गहराई से समर्पित था, और हिरण्यकशिपु क्रोधित था कि उसका पुत्र उसके ऊपर इस देवता की पूजा करता है। कहानी के अनुसार, भगवान विष्णु आधे शेर और आधे आदमी के रूप में प्रकट हुए और हिरण्यकशिपु का वध किया। इस तरह बुराई पर अच्छाई की जीत हुई।

होली महोत्सव से जुड़ी एक और कहानी राधा और कृष्ण की है। हिंदू भगवान विष्णु के आठवें अवतार के रूप में, कृष्ण को कई लोग सर्वोच्च देवता के रूप में देखते हैं। कृष्ण के बारे में कहा जाता है कि उनकी त्वचा नीली थी, क्योंकि पौराणिक कथाओं के अनुसार, उन्होंने एक राक्षस का जहरीला दूध पी लिया था जब वह एक शिशु थे। कृष्ण को देवी राधा से प्यार हो गया, लेकिन उन्हें डर था कि वह उनकी नीली त्वचा के कारण उनसे प्यार नहीं करेंगी – लेकिन राधा ने कृष्ण को अपनी त्वचा को रंग से रंगने दिया, जिससे वे एक सच्चे जोड़े बन गए। होली पर, उत्सव के प्रतिभागी कृष्ण और राधा के सम्मान में एक दूसरे की त्वचा पर रंग लगाते हैं। होलिका दहन का समय एवं मान्यता