नीट परीक्षा पुनः कराने की चाह, कांग्रेस ने चुनी संघर्ष की राह

25
नीट परीक्षा पुनः कराने की चाह, कांग्रेस ने चुनी संघर्ष की राह
नीट परीक्षा पुनः कराने की चाह, कांग्रेस ने चुनी संघर्ष की राह

लखनऊ। NEET-UG  2024 के परिणामों में अनियमितताओं के चलते पूरे देश के युवाओं में असंतोष फैल गया है। भाजपा शासित राज्यों में पेपर लीक की बीमारी अब केन्द्र तक जा पहुंची है। भाजपा सरकारों की युवाओं के प्रति बढ़ती संवेदनहीनता से युवाओं का भविष्य अंधकारमय हो गया है। NEET 2024 के परिणाम आने के बाद कांग्रेस पार्टी लगातार इस मुद्दे केा उठाती रही है। कल दिनांक 20 जून को जननायक राहुल गांधी ने प्रेसवार्ता कर इस पूरी व्यवस्था को कटघरे में खड़ा कर दिया था। आज पूरे देश में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर विरोध प्रदर्शन किया गया।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने प्रदेश के सभी जनपद मुख्यालयों पर तथा राजधानी लखनऊ में प्रदेश अध्यक्ष पूर्व मंत्री अजय राय के नेतृत्व में हजारों की संख्या में कांग्रेसजनों ने नीट परीक्षा में हुई धांधली के विरोध में विधानसभा घेराव के लिए कूच किया। इस दौरान मौके पर तैनात पुलिस बल द्वारा कांग्रेसजनों को बैरिकेड लगाकर बलपूर्वक रोकने का प्रयास किया गया। जिसमें पुलिस प्रशासन एवं कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच धक्का मुक्की हुई जिसमें कई कांग्रेसजनों को हल्की चोटें भी आई। आक्रोशित कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपने प्रदेश अध्यक्ष अजय राय के साथ ‘‘मोदी सरकार मुर्दाबाद’’, ‘‘भाजपा सरकार मुर्दाबाद‘‘, ‘‘नीट परीक्षा रद्द करो’’, ‘‘धर्मेन्द्र प्रधान इस्तीफा दो’’ नारा लगाकर बैरीकेड तोड़ कर आगे बढ़े। जिस दौरान पुलिस प्रशासन से काफी जद्दोजहद के पश्चात प्रदेश अध्यक्ष अजय राय एवं सैकड़ों की संख्या में कांग्रेसजनों क़ो गिरफ्तार कर प्रशासन की बसों के माध्यम से अस्थाई जेल ईको गार्डेन ले जाया गया।

गिरफ्तारी के दौरान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय राय ने कहा कि आजाद भारत के इतिहास में युवाओं के प्रति इतनी संवेदनहीन सरकार कभी नहीं देखी गई। इस सरकार में चाहे प्रतियोगी परीक्षा हो, रोजगार की परीक्षा हो, सभी परीक्षाएं भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ती चली गई। एक भी परीक्षा नहीं हुई जिसमें पेपर लीक ना हुआ हो। सरकार लगातार नकल माफियाओं पर नकेल कसने में नाकामयाब रही है। ऐसा प्रतीत होता है की इन अपराधियों को सत्ता संरक्षण प्राप्त है। कांग्रेस पार्टी युवाओं के हितों के साथ अन्याय नहीं होने देगी और सड़क से सदन तक संघर्ष करेगी। नीट परीक्षा पुनः कराने की चाह, कांग्रेस ने चुनी संघर्ष की राह