देश का पहला पब्लिक ट्रांसपोर्ट रोपवे

286
http://nishpakshdastak.com/pandey-is-not-serious-about-the-epidemic/
http://nishpakshdastak.com/pandey-is-not-serious-about-the-epidemic/

वाराणसी में देश के पहले पब्लिक ट्रांसपोर्ट रोपवे प्रोजेक्ट का भी किया शुभारंभ। देश का पहला पब्लिक ट्रांसपोर्ट रोपवे निराशा की छवि से बाहर निकलकर आज यूपी आशा और आकांक्षा की दिशा में बढ़ चला है। जमीन पर उतरे ये नए प्रोजेक्ट्स काशी और यूपी की समृद्धि के रास्ते को सशक्त करते हैं। रोपवे से बढ़ेगी सुविधा और आकर्षण। प्रधानमंत्री मोदी ने काशी के विकास को नई गति देने के संकल्प का जिक्र करते हुए कहा कि ये जो रोपवे यहां बन रहा है, उससे काशी की सुविधा और आकर्षण दोनों बढ़ेगा। रोपवे बनने के बाद बनारस कैंट रेलवे स्टेशन और काशी विश्वनाथ कॉरीडोर की दूरी कुछ मिनट की रह जाएगी। इससे कैंट स्टेशन से गुदौलिया के बीच ट्रैफिक जाम की समस्या भी दूर हो जाएगी।

READ MORE-देश बांटने की राजनीति करती कांग्रेस-योगी


आज बनारस की एयर कनेक्टिविटी को मजबूत करने की दिशा में बड़ा काम हुआ है। बाबतपुर हवाई अड्डे में एक नए एटीसी टावर का लोकार्पण हुआ है। अभी तक यहां 50 से अधिक विमानों को हैंडल किया जाता है। नया एटीसी टावर बनने से ये क्षमता बढ़ जाएगी। उन्होंने कहा कि काशी में स्मार्ट सिटी मिशन के तहत जो काम हो रहा है उससे भी सुविधाएं बढेंगी। नमामि गंगे मिशन के तहत गंगा किनारे बसे शहरों में सीवेज ट्रीटमेंट का एक बड़ा नेटवर्क तैयार हुआ है। गंगा के दोनों तरफ पर्यावरण से जुड़ा बड़ा अभियान शुरू होने वाला है। सरकार का प्रयास है कि गंगा के दोनों तरफ 5 किमी के हिस्से में प्राकृतिक खेती को बढ़ावा दिया जाए। पिछले वर्ष सिगरा स्टेडियम के पुनर्विकास का फेज-1 शुरू हुआ। आज फेज-2 और फेज-3 का भी शिलान्यास किया गया है। इससे यहां अलग-अलग खेलों की, हॉस्टल की आधुनिक सुविधाएं विकसित होंगी। बनारस में इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम भी बनने जा रहा है। जब स्टेडियम बनकर तैयार होगा तो एक और आकर्षण काशी में भी जुड़ जाएगा।

विकसित भारत के निर्माण में कोई पीछे न छूटे


खुद को जनता का सेवक बताते हुए पीएम ने कहा कि आज केंद्र में, यूपी में जो सरकार है वो गरीब की सेवा करने वाली सरकार है। मेरी सरकार की योजनाओं के लाभार्थियों से बात हो रही थी। किसी को आंखों की रोशनी मिली तो किसी को सरकारी मदद से रोजी रोटी की व्यवस्था हुई। करीब एक हजार लोगों का मुफ्त मोतियाबिंद का इलाज हुआ है। रेहड़ी-पटरी फुटपाथ पर काम करने वालों को पहली बार पीएम स्वनिधि योजना से बैंकों से ऋण मिलना शुरू हुआ है। इस वर्ष के बजट में विश्वकर्मा साथियों की मदद के लिए भी पीएम विश्वकर्मा योजना लेकर आए हैं। प्रयास यही है कि अमृत काल में विकसित भारत के निर्माण में हर भारतीय का योगदान हो, कोई भी पीछे न छूटे। देश का पहला पब्लिक ट्रांसपोर्ट रोपवे